Friday, June 29, 2012


ज़हर क्यों हिस्से हमारे आ रहा है
जिसने बोये कांटे अमृत पा रहा है
--अर्पित अनाम