Tuesday, June 5, 2012

मानवों से आज मानव हो रहा बेहाल है 


भूल मानव धर्म अपना दुष्ट चलता चाल है 


कुछ व्यवस्था ही बनी ऐसी कि हैं भयभीत सब 


रक्षकों का यूँ तो कहने को बिछा इक जाल है 


यूँ अकड़ कर चल रहे मनो खुदा हैं बस वही 


हैं भली टांगें मगर टेढ़ी ही टेढ़ी चाल है


बेबसी का घोंट कर दम खून सारा पी लिया


पेट काटे जो पराये आज वह प्रतिपाल है


साथ देने की सदा सुनकर तो आए वह मगर


सुर में सुर कैसे मिले जो बेसुरी सी ताल है


शक भी कोई क्या करे 'अर्पित' भी अर्पित हो गया


एक दाना ही नहीं काली ही सारी दाल है .


--------------अर्पित अनाम----------