Tuesday, June 19, 2012

आग


इक आग धधकती है भीतर
कुछ धुआं धुआं सा उठता है
जब सामने होता अन्याय
तो रुआं रुआं सा उठता है .
---अर्पित अनाम