Friday, June 29, 2012

आह ! नीचता की सब हदें तो कर गये हैं पर वो 
इससे ज़्यादा क्या गिरेंगे गर्त में वे अब अधम
--अर्पित अनाम