Monday, June 25, 2012


बुराई वे करें, बदनामियाँ हिस्से मेरे आएं
अच्छाई हम करें, शाबासियां वे लूट ले जाएं
--अर्पित अनाम