Monday, June 25, 2012

हे भगवन यदि इन्सां बुरे तूने बनाये हैं
तो मुजरिम तू भी है सच की हमारी इस अदालत का
--अर्पित अनाम