Saturday, December 29, 2012

दामिनी इस नपुंसक व्यवस्था के कफ़न में आखिरी कील साबित हो !