Thursday, June 14, 2012


चुप रहना ही है भला जब तक मन निष्प्राण
कहने को तो बहुत कुछ दिल में हैं अरमान
----अर्पित अनाम