Sunday, July 22, 2012


हम जियें भी तो जियें कैसे बताओ 'अर्पित'
**********************************************
बेवफा छत पे मुझे देखने आया न करो
दिल को अब और मिरे यूँ तो सताया न करो
प्यार आता है मुझे जिसपे, वो अपनी सूरत
मुझको छुप-छुप के यूँ तरसा के दिखाया न करो
जब नहीं पास तुम्हारे, मिरे ज़ख्मों का इलाज़
दुखती रग को तो मिरी छेड़ के जाया न करो
हम जियें भी तो जियें कैसे बताओ 'अर्पित'
उनके कूचे में, वो कहते हैं कि आया न करो.
================================अर्पित अनाम