Wednesday, July 18, 2012


देखो आज उठ नहीं रही है उनकी आंख मेरे सामने
इंसाफ की जो बात करके मिले गये हैं जुल्मियों से