Monday, June 8, 2009

सच बोलूं जो तब तो शामत आती है
चुप रहना भी नागवार गुज़रे है मुझे
-अर्पित अनाम