Thursday, August 23, 2012

काश !
मायावती ने जो पैसा मूर्तियों में लगाया,
वह गरीबों को रोजगार देने में लगाया होता .