Sunday, March 30, 2014

जब किसी भी तरह के सोचने पर कोई  कर नहीं लगता
तो
सकारात्मक ही क्यों न सोचा जाये