Friday, April 27, 2012

वे रूठे तो हर बार मनाया हमने
उनसे तो इकबार भी हमें मनाया न गया